Wednesday, May 07, 2014

तेरा शहेर तेरी गलियाँ

तेरा शहेर तेरी गलियाँ 
लगे कभी अपना कभी अंजना...
तेरा सहर अब मुझे लगे..
अपना सा या बेगाना सा..

कुछ कुछ पहचाना सा..
बहुत सा अंजाना सा .
यूँ तो कोई रिश्ता नही इससे मेरा
फिर जाने क्यू ल्गता है अपना सा.
ये क्यू लगे अपना सा...

undavalli caves

जब तुझसे ही था रिश्ता कुछ ऐसा.
कितनी ही बार इन्ही गलियों मे हाथ पकड़े चले थे. 
ये गवाह है मेरे प्यार का, मेरे ऐतबार का.
ये गवाह है उन सभी खास पलों का जिसमे थे सपने भरे. 
भरे थे मेरे अरमान.

ये तो मेरे दर्द का साक्षी भी है...
और मेरे दर्द पर रोने वाला दोस्त भी....
उससे रिश्ता टूटा तो इससे भी मूह मोड़ा था.
मुझे मेरे ही दर्द के साथ विदा करने वाला बाबुल भी.
परकभी ना छूटता मेरा इसका साथ 
ये मुझे अपने दामन मे हुमेशा ही बुलाता रहा
ना जाने क्यू. 

11 comments:

  1. Tune jo chod diya..tere sehar ne sambhala hai..jakhm toh shaayad bhar chuka..pr dard abhi bhi taaza h...

    Nyc one mam..keep it up..

    ReplyDelete
    Replies
    1. Han Deepankar shayad puri tarh se sahi ho tum, jo kuch bhi piche chuta hai uske yaad mere sath humesha hi rehti hai.....

      Delete
  2. शहर ही क्या कुछ अनजानी चीज़ें भी कुछ जज़्बातों के ज़रिये अपनी सी लगने लगती हैं...सुंदर प्रस्तुति।।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ankur ji,
      Ye to bilkul hi sahi farmaya hai apne. Pyar to ho hi jate hai. Waise welcome mere blog pr aap pehli bar aaye ho.

      Delete
  3. Gal in city, I'm new at your blog aur mujhe ye bahut acha lga...mai apne aap ko isse bahut relate kr pati hu.
    Keep it up and keep writing

    ReplyDelete
    Replies
    1. Hi.........Mehak thanks a Ton for reading and appreciating,
      I know most of the gals can relate with me as I'm a every girl next door...

      Delete
  4. क्या बात है|
    आप कविता भी लिखते हो आज ही पता लगा और अच्छा लिखते हो.
    पर कौनसे शहर और कौनसे यादों की बात कर रहे हो?

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ji han sir ji
      likh lete hain kabhi kabhi
      abhi aur bhi kuch pta chalna baki hai....
      wait and watch
      :D

      Delete
  5. क्या बात है|
    आप कविता भी लिखते हो आज ही पता लगा और अच्छा लिखते हो.
    पर कौनसे शहर और कौनसे यादों की बात कर रहे हो?

    ReplyDelete
  6. Replies
    1. Thanks Gurvinder ji.
      You liked it its my pleasure

      Delete

I love to hear from you about this post..

Great People.. Love You All :)