Wednesday, August 07, 2013

पढती हूँ किताब, लिखती हूँ ख्याल




पढती हूँ किताब, लिखती हूँ ख्याल
देखती हूँ सपने, उड़ती हूँ ख्यालों में,
ना समझना इसे कोई कविता,
ये सिर्फ हैं मेरे ख्याल,
मात्र हैं ये कुछ पंक्तियाँ

पढती हूँ किताब, लिखती हूँ ख्याल
रेत पर चतली हूँ, कुछ सपने बुनती हूँ
सोचती हूँ ये खुशियाँ ठहर जाये मेरे साथ
पर ख्याल आता है रेत  नहीं रुकता हाथ में
तो कैसे रुकेंगी ये खुशियाँ

पढती हूँ किताब, लिखती हूँ ख्याल
कॉफ़ी कम , मसाला चाय ज्यादा पीना पसंद करती हूँ 
सुबह की चाय मेरे लिए मैडिटेशन है.
लम्बे और बिखरे बाल रखती हूँ 
बहुत बातें करती हूँ 

पढती हूँ किताब, लिखती हूँ ख्याल
बहुत  घुमाना पसन्द करती हूँ.
बहुत हँसना पसन्द करती हूँ.
कभी ख्यालों में सपने बुनती हूँ 
कभी उन सपनों को पाने की कोशीश करती हूँ 

पढती हूँ किताब, लिखती हूँ ख्याल
देखती हूँ सपने, उड़ती हूँ ख्यालों में, 

8 comments:

  1. पढती हूँ किताब, लिखती हूँ ख्याल
    कॉफ़ी कम , मसाला चाय ज्यादा पीना पसंद करती हूँ
    सुबह की चाय मेरे लिए मैडिटेशन है.
    लम्बे और बिखरे बाल रखती हूँ
    बहुत बातें करती हूँ

    लाजवाब कविता।

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद्, आपके भी कई पोस्ट पढ़े मैंने सभी बेहद अच्छे है

      Delete
  2. it's awesome and mind blowing poem...<3

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you so much Ajay for appreciating my poem...
      I hope you will be here till my blog is coming :)

      Delete
  3. I rarely read poetry in Hindi. Never came across any and never really made an effort to search some on my own. But I read this and I must say that I really liked it.

    पढती हूँ किताब, लिखती हूँ ख्याल
    रेत पर चतली हूँ, कुछ सपने बुनती हूँ
    सोचती हूँ ये खुशियाँ ठहर जाये मेरे साथ
    पर ख्याल आता है रेत नहीं रुकता हाथ में
    तो कैसे रुकेंगी ये खुशियाँ

    My favourite stanza. very thoughtful.

    ReplyDelete
    Replies
    1. @Enigmatic Soul,
      I am very lucky so that I could attract your attention towards my poetry and I am very thankful to you, you gave your precious time for reading it... I am very pleased to have your comment. I would like if you visit this page frequently.

      Delete
  4. ek khyaal buna hai maine .. ek sapna dekha hai maine .. :) beautiful expressions.

    ReplyDelete
    Replies
    1. I am very glad to have your comments here....

      Delete

I love to hear from you about this post..

Great People.. Love You All :)